Padosan Bhabhi Ke Saath Pehli Baar

Click to this video!
Deep punjabi 2016-10-06 Comments

मैं — नही भाभी आप साफ साफ बोलो मुझे क्या करना होगा ?

वो – देखो देवर जी, आपको गर्ल फ्रेंड चाहिये और मुझको ब्वायफ़्रेंड, क्यों न घर की बात घर में ही रह जाये। हम दोनों एक दूसरे की जरूरत पूरी करदे।

मैं – पर भाभी आप तो शादीशुदा है, आपको ऐसी क्या जरूरत पड गयी, ब्वायफ़्रेंड की ? भाई साब के होते हुए आपकी ज़िन्दगी में कोई लड़का आये, क्या यह बात आपको सही लगती है ।

वो (रोते हुएे) – हां बिल्कुल सही है। क्योंके मैं भी इंसान हूँ, कोई पत्थर की मूर्ति नही। मुझमें भी भावनाये समायी हुई है। मेरा भी दिल प्यार के लिए तरस्ता है। मेरा भी दिल करता है, मेरी हर रात रंगीन हो।

वो चाबी भरे खिलोने की तरह बोले ही जा रही थी।

मैं – क्या मतलब रंगीन से आपका भाभी ?

वो – मतलब के तुम्हारे भाई साब को कोई सेक्सुअली बीमारी है, पहले तो जल्दी उनका खड़ा नही होता, यदि हो भी जाये तो 2-4 मिनटो में ही रस्खलित हो जाते है और मैं प्यासी ही रह जाती हूँ। हर बार अपनी किस्मत को कोसती रहती हूँ।

मैं – पर भाभी फेर भाभी बच्चा कैसे हुआ आपका यदि सही तरीके से सम्बन्ध नही जुड़ा ।

वो – राकेश के जन्म तक ये ठीक थे, उसके बाद ही ऐसे हुए है। हमारी शादी के 3 बाद इन्हें अलग अलग ब्रांड की महंगी महंगी दवाइया खाकर सेक्स करने का बड़ा शौंक था। इनका इरादा होता था ये सेक्स के मैदान में घण्टो तक टिके रहे। पहले जब तक दवाई की इनके शरीर को आदत नही थी। बहुत खूब तरीके से मेरी प्यास बुझाते थे।

मेरी चूत 4-5 बार पानी छोड़ जाती थी पर इनका एक बार भी नही पानी निकलता था। हम बहुत खुश थे। मेने इनको बहुत समझाया के दवाई कभी कभार खाया करो, रोजाना खाने से आप इसके आदी हो जाओगे।

परन्तु इन्होंने मेरी एक भी नही मानी। आज भी जब दवाई खा लेते है। तब तो थोडा बढ़िया तरीके का सेक्स कर लेते है। जब कभी दवाई खत्म हो या दवाई होते हुए भी पहुँच से दूर हो, तब इनका पानी 2 मिनट में ही निकल जाता है।

मेने इनको कई बड़े डॉक्टर्स को भी दिखाया है। उनका कहना है के दवाई खराबी कर गयी है। जिसकी वजह से लण्ड को पर्याप्त मात्रा में खून नही मिल पा रहा मतलब के लण्ड की नाड़ी तन्त्र क्षस्तिग्रस्त हो गया है।

जब कोई विरोध करती हूँ तो मारते पीटते है। एक गुलाम की ज़िन्दगी व्यतीत कर रही हूँ। अब तुम बोलो देवर जी मुझे ब्वायफ़्रेंड बनाना चाहिए या नही ?

मैं – पहले तो भाभी आप प्लीज़ रोना बन्द कीजिये। रही बात भाई के बारे में ऐसी बीमारी की वो मुझे पता नही था। अगर मेरे लायक कोई सेवा हो बताना, आपकी जरूर बात पे गौर करूँगा।

वो – (मुझे गले लगाकर रोते हुए) – प्लीज़ देवर जी आप मान जाओ न आपका ये अहसान ज़िन्दगी भर नही भूलूंगी। मुझे भी पता है ये गलत काम कर रही हूँ। परन्तु कब तक काम अग्नि में जलती रहूगी। किसी दिन कुछ गलत न कर बैठू। मैंने इस लिए आपसे बात कर ली। फेर भी तुम्हे जैसा अच्छा लगे बतादो।

उस समय मेरी जगह आपमें से कोई भी होता ये मौका हाथ से गवांना नही चाहता। सो मेरा भी यही हाल था। एक तो मेरी कोई गर्लफ्रेंड नही थी। दूजा सेक्स के लिए बहुत मन मचलता था। भाभी की बात ने सारी परेशानी का एक मिनट में हल कर दिया।

मैंने हिम्मत करके भाभी के पतले गुलाबी होंठो पे अपने सूखे और प्यासे होंठ रख दिए। भाभी भी आँखे बन्द करके मेरे चुम्बन का जवाब, मेरे होंठ चूसकर देने लगी और लडखडाती आवाज़ में आई लव यु देवर जी मेरी प्यास बुझा दो न, मैं आपकी हर ख्वाहिश पूरी करदूंगी।

हमारा ये चुम्बन करीब 10 मिनट चला होगा।

मैं — मुझे तो इतना ही आता था भाभी, वो भी एक फिळम में हीरो हेरोइन को किस करते देखा था। अब आप जैसा करना चाहो कर सकते हो।

वो — चलो ठीक है, आओ हमारे बेड रूम में चलते है।

मैं उसके पीछे पीछे उनके कमरे में चला गया।

उसने अंदर जाकर अंदर से कुण्डी लगा ली और बोली,” आपको बोलकर बताउंगी तो ज्यादा टाइम लगेगा और शयद पूरी समझ भी न आये। इस लिए मैं टीवी में एक फ़िल्म लगाती हूँ। आप वैसे वैसे करते जाना, जैसे हीरो हेरोइन के साथ करेगा।

मैं – ठीक है भाभी।

वो – इस वक़्त भाभी नही डार्लिंग बोलो सन्ध्या डार्लिंग।

मैं – ओके सन्ध्या डार्लिंग जैसा आपको ठीक लगे।

भाभी ने बेड की दराज़ से एक सीडी कैसट निकाली और सीडी में डालकर प्ले करदी। ये एक ब्लू फ़िल्म थी।

वो — जब तक फिल्म की नम्बरी चल रही है। हम अपने अपने कपड़े उतार देते है।

मुझे उसकी बात ठीक लगी। दो मिनट के अंदर ही हम कपड़ो के बाहर हो गए। हम दोनों नंगे बैठकर वो ब्लू सीडी देख रहे थे। उसमे हीरो बना लड़का, हेरोइन लड़की को नंगा करके उससे अपना लण्ड चुसवा रहा होता है।
मेने शरारत भरी नज़रो से भाभी को इशारा किया।

मेरा इशारा पाते ही भाभी ने अपनी कमांड सम्भाल ली और मेरा करीब 4 इंची लम्बा और 2 इंची मोटा खड़ा लण्ड देखरेख भाभी के मुह में पानी आ गया और बोली, कब से ऐसा लण्ड चखने और लेने को तरस गयी थी। आज जाकर भगवान ने मेरी इच्छा पूरी की है। जैसे ही भाभी ने मेरे लण्ड का सुपाड़ा ऊपर करने की कोशिश की तो मुझे थोडा दर्द हुआ।

Comments

Scroll To Top