Papa Ke Dost Ki Naukri Bachayi

Click to this video!
Arashdeep Kaur 2017-01-31 Comments

उसने घुटनों के बल नीचे बैठ गया और मेरे गोरे, नाजुक एवं चिकने पेट को चूमने लगा। वो मेरे पेट को हर जगह से चूम रहा था और मेरी नाभि को ज्यादा चूम रहा था। वो मेरे पेट को चूमने लगा और नाभि में जीभ घुसा कर घुमा देता। मैं उसकी कामुक हरकतों से मचल रही थी। अब वो मेरे पेट को अपने मुंह में लेकर जोर से चूसने लगा और काटने लगा। यह कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है..

जब जब वो वहशी होता तब तब मुझे उस पर ज्यादा प्यार आता। मैं चाहती थी वो मुझे इसी वहशीपन से चोद चोद कर मेरी चूत एवं गांड को फाड़ डाले और मेरी चुदाई की आग को अपने वहशीपन से शांत कर दे। उसने मुझे घुमा दिया और मेरे चूतडो़ं को चाटने और काटने लगा। जब वो मेरे चूतडो़ं की फांकें खोलकर गांड के छेद को चूमता तो मुझे अजीब सा मजा आता।

अब उसने दीवान पर लेट कर सिर नीचे लटका लिया और मुझे टांगें खोलकर अपने मुंह पर आने को बोला। मैं उसका सिर अपनी टांगों के बीच लेकर खड़ी हो गई। उसने अपने हाथ ऊपर करके मेरे बूब्ज़ पकड़ लिए और मेरी भरी हुई जांघों को अंदर से चूमते हुए मेरी चूत पर होंठ रख दिए। उसने मेरी चूत को जोर से चूमा और मेरी चूत में जीभ घुसेड़ दी।

वो मेरी चूत के अंदर तक जीभ ले जाकर हिला हिला कर चाटने लगा और मेरे बूब्ज़ बहुत जोर से दबाने लगा। उसके चूत चाटने से सपड़… सपड़… की आवाजे़ं आ रही थी, जिसकी वजह से मुझे मस्ती चढ़ने लगी। मैं मस्ती में मचलती हुई अपनी गांड हिला हिला कर अपनी चूत उसके मुंह पर रगड़ने लगी।

उसने मुझे दीवान पर कोहनियों के बल लेटा दिया और अपना लंड मेरे सामने कर दिया। अब मैंने पहली बार उसका लंड गौर से देखा जो मेरी कल्पना से कहीं ज्यादा लंबा और मोटा था। उसका शानदार लंड देखकर उसके लंड केलिए बेहद प्यार उमड़ने लगा। मैंने लपक कर उसके लंड की चमड़ी पीछे की और लाल टोपा बाहर आ गया।

उसके लंड का शानदार लाल टोपा देखकर मेरे मुंह में पानी भर आया और मैं उसके टोपे पर जीभ घुमा घुमा कर चाटने लगी। उसके गीले टोपे का नमकीन स्वाद बहुत अच्छा लग रहा था। मैंने अपना मुंह खोलकर उसका सारा लंड मुंह में ले लिया और चूसने लगी।

मुझे उसके लंड का स्वाद बहुत अच्छा लग रहा था और ऐसा लग रहा था जैसे मैं पसंदीदा डिश खा रही हूं। मैं उसके लंड को चूसते हुए एक हाथ से उसके अंडकोषों से खेलने लगी। वो आराम से खड़ा आंहें भर रहा था और मजा ले रहा था। मैं उसके वहशी होने का इंतजार करने लगी और जल्दी ही वो वहशी बन गया। उसने मुझे बालों से पकड़ा और मेरे मुंह में धक्के मारने लगा।

उसका लंड मेरे गले में अंदर-बाहर होने लगा और मैं भी सिर को आगे-पीछे करके उसका लंबा मोटा लंड गले के और नीचे तक लेने लगी। उसका वहशीपन मुझे अच्छा लग रहा था और मुझे ऐसी ही वहशी जोश वाली चुदाई अच्छी लगती है। लंड के मेरे गले के अंदर-बाहर होने से गप्प… गप्प… की आवाजे़ं आने लगीं और उसका जोश बढ़ता जा रहा था।

वो कुर्सी पर बैठ गया और मुझे गोद में आने को बोला। मैंने अपनी टांगें मोड़कर कुर्सी पर रखीं और उसके लंड पर अपनी चूत टिका दी। मैं धीरे-धीरे गांड को नीचे धकेलने लगी और उसका लंड मेरी चूत में फंसता हुआ जड़ तक बैठ गया। मैंने अपनी गांड ऊपर उठा कर तेज़ी से नीचे धकेल दी।

उसका लंड सीधा मेरी बच्चेदानी से टकरा गया और मेरे मुंह से आह निकल गई। उसने मुझे रुकने को बोला और गिलास में दारू डाल ली। उसने गिलास मेरे हाथ में देते हुए कहा मैं उसको अपने मुंह से दारू पिला दूं। मैंने अपने मुंह में दारू ली और उसके होंठों से होंठ लगा कर उसके मुंह में डाल दी।

फिर उसने अपने मुंह में दारू ली और मेरे मुंह में डाल दी। मैंने गटाक से दारू गले के नीचे उतार ली। मैंने दारू की बोतल उठाई जो आधे से कम थी और बोतल में ही सोडा मिला दिया। मैंने बोतल अपने होंठों से लगाई और काफी दारू खींच ली। थोड़ी दारू उसको पिला दी और बाकी दारू उसकी छाती और अपने बूब्ज़ पर गिरा ली। यह कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है..

मैंने अपने बूब्ज़ उसकी छाती पर मसल दिए और हम दोनों के पेट, उसकी छाती और मेरे बूब्ज़ पूरी तरह दारू से भीग गए। मैं सिर नीचे झुका कर उसकी दारू से भीगी छाती को जीभ से चाटने लगी।

उसकी कोमल छाती के निप्पलों से दारू चाटने का मुझे बहुत आनंद आ रहा था। मैंने अपने बूब्ज़ उसके चेहरे पर सटा दिए और उसके लंड पर उछलने लगी। वो मेरे बूब्ज़ को चूस कर दारू और मेरे बूब्ज़ के रस का एक साथ मजा लेने लगा।

Comments

Scroll To Top