Badi Mushkil Se Biwi Ko Teyar Kiya – Part 7

Click to this video!
iloveall 2016-08-29 Comments

This story is part of a series:

Desi Sex Story

रात दस बजे अनिल अपनी पुरानी अम्बेसडर कार में हमें लेने पहुंचा। जैसे उसने हॉर्न बजाया, नीना सबसे पहले बाहर आयी।

अनिल तो देखते ही रह गया। नीना की साडी का पल्लू उसके उरोजों को नहीं ढक पा रहा था । उसके रसीले होँठ लिपस्टिक से चमक रहे थे। उसके भरे भरे से गाल जैसे शाम के क्षितिज में चमकते गुलाबी रंग की तरह लालिमा बिखेर रहे थे।

सबसे सुन्दर नीना की आँखे थीँ। आँखों में नीना ने काजल लगाया था वह एक कटार की तरह कोई भी मर्द के दिल को कई टुकड़ों में काट सकता था। आँखे ऐसी नशीली की देखने वाला लड़खड़ा जाए। उसके बाल उसके कन्धों से टकराकर आगे उन्नत स्तनों पर होकर पीछे की तरफ लहरा रहे थे।

नीना ने जैसे ही अनिल को देखा तो थोड़ी सहमा सी गयी। उसे दोपहर की अनिल की शरारत याद आयी। आजतक किसीने भी ऐसी हिमत नहीं दिखाई थी की नीना की मर्जी के बगैर इसको छू भी सके।

पर अनिल ने आज सहज में ही न सिर्फ कोने में दीवार से सटा कर उसे रंग लगाया, बल्कि उसने नीना के ब्लाउज के ऊपर से अंदर हाथ डाल कर उसकी ब्रा के हूको को अपनी ताकत से तोड दिए और स्तनों को रंगों से भर दिए।

नीना को देख कर अनिल तुरंत कार का दरवाजा खोल नीचे उतरा और फुर्ती से नीना के पास आया। उस समय आँगन में सिर्फ वही दोनों थे।

अनिल नीना के सामने झुक और अपने गालों को आगे कर के बोला, “नीना भाभी, मैं बहुत शर्मिन्दा हूँ। आज मैंने बहुत घटिया हरकत की है। आप मुझे मेरे गाल पर एक थप्पड़ मारिये। मैं उसीके लायक हूँ। नीना एकदम सहमा गयी और एक कदम पीछे हटी और बोली, “अनिल ये तुम क्या कर रहे हो?”

अनिल ने झुक कर अपने हाथ अपनी टांगों के अंदर से निकाल कर अपने कान पकडे और नीना से कहा, “नीना आप जबतक मुझे माफ़ नहीं करेंगे मैं यहां खुले आंगन में मुर्गा बना ही रहूँगा। मुझे प्लीज माफ़ कर दीजिये।”

नीना यह सुनकर खुलकर हंस पड़ी और बोली, “अरे भाई, माफ़ कर दिया, पर यह मुरगापन से बाहर निकलो और गाडी में बैठो और ड्राइवर की ड्यूटी निभाओ।“

अनिल ने तब सीधे खड़े होकर नीना को ऊपर से नीचे तक देखा और कहा, “नीना भाभी, आप तो आज कातिलाना लग रही हैं। पता नहीं किसके ऊपर यह बिजली गिरेगी।”

नीना हंस पड़ी और बोली, “अनिल आज तुम ज्यादा ही रोमांटिक नहीं हो रहे हो क्या? और आज अनिता भी नहीं हैं।”

अनिल तुरंत लपक कर बोला, “तो क्या हुआ? आप तो है न?” यह सुन नीना थोड़ी सकपका गयी और कुछ भी बोले बिना अनिल की कार मैं जा बैठी। मैं मेरे पिता और माताजी को प्रणाम कर और मुन्ना को प्यार करके बाहर आया और आगे की सीट में नीना के पास बैठ गया।

अनिल अपनी पुरानी एम्बेसडर में आया था। उस कार में आगे लम्बी सीट थी जिसमें तिन लोग बैठ सकते थे। अनिल कार के बाहर खड़ा मेरा इंतजार कर रहा था। जैसे ही मैं गाडी मैं बैठा, अनिल भी भागता हुआ आया और ड्राइवर सीट पर बैठ गया। नीना की एक तरफ मैं बैठा था और दूसरी तरफ अनिल ड्राइवर सीट में बैठा था और नीना बिच में।

जैसे ही अनिल ने कार स्टार्ट की, उसके फ़ोन की घंटी बजी। अनिल ने गाडी रोड के साइड में रोकी और थोड़े समय बात करता रहा। जब बात ख़त्म हुई तो नीना ने पूछा, “किस से बात कर रहे थे अनिल?”

अनिल ने नीना की तरफ देखा और थोड़ा सहम कर बोला, ” यह महेश का फ़ोन था। बात थोड़ी ऐसी है की आपको शायद पसंद ना आये। थोड़ी सेक्सुअल सम्बन्ध वाली बात है।”

तब मैंने नीना के ऊपर से अनिल के कंधे पर हाथ रखा और बोला, “देखो अनिल, हम सब वयस्क हैं. नीना कोई छोटी बच्ची नहीं। वह एक बच्चे की माँ है। आज होली का दिन है, थोड़ी बहुत सेक्सुअल बातें तो वह भी सुन सकती है। जब नीना ने पूछ ही लिया है तो बता दो। ठीक है ना नीना?” मैंने नीना के सर पर ठीकरा फोड़ते हुए कहा।

नीना ने अनिल की तरफ देखा और सर हिलाते हुए हाँ का इशारा किया।  यह कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे हैं।

अनिल ने कहा, “महेश मेरा पुराना दोस्त है। उसकी पोस्टिंग जब जोधपुर में हुई थी तब उसका एक पुराना कॉलेज समय का मित्र भी वहाँ ही रहता था। वह मित्रकी पत्नी भी कॉलेज के समय में महेश की दोस्त थी। उस समय महेश और उसकी होनी वाली पत्नी के बिच में प्रेम संदेशों का आदान प्रदान भी महेश करता था। यूँ कहिये की उनकी शादी ही महेश के कारण हो पायी थी। महेश के दोस्त की पत्नी को महेश के प्रति थोड़ा आकर्षण तो था पर आखिर में उसने महेश के मित्र के साथ ही शादी करनेका फैसला लिया।“

Comments

Scroll To Top