Bhoot To Chala Gaya – Part 8



Click to this video!
iloveall 2017-05-13 Comments

This story is part of a series:

मेरे पति की बात सुनकर मेरी आखें नम हो गयीं। भला ऐसा पति किसी को मिलेगा क्या? मैंने कहा, “जानूं, मैं नहीं जानती तुम क्या सोच रहे हो। पर तुम निश्चिन्त रहो, मैं समीर को रात के लिए रोकूंगी और तुम्हारे दोस्त को कुछ भी ऐसा नहीं कहूँगी जिससे उसे ठेस पहुंचे। मैंने बहुत भाग्य शाली हूँ की मैं तुम्हारी पत्नी हूँ। मैं तुम्हें बहुत प्यार करती हूँ। अब मैं बातें करके थक गयी हूँ और फ़ोन रखती हूँ, ओके? डार्लिंग, आई लव यू।” देसिसेक्स हिन्दी चुदाई कहानी

राज ने उत्तर में कहा, “डार्लिंग, आई लव यू टू।” यह कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है।

मैंने जैसे ही फ़ोन काटा तो पीछे से मुझे समीर की खांसने की आवाज सुनाई दी। मेरा फ़ोन मेर हाथ से गिर पड़ा। मैं पलटी तो देखा की समीर बैडरूम के दरवाजे पर खड़ा था। समीर घर के अंदर कैसे आया? क्या समीर ने मेरे और मेरे पति के बिच हुई बातों को सुन लिया था? मैं तो बात करते करते लगभग नंगी हालत में खड़ी थी। मेरा तौलिया छोटा था और मुझे पूरी तरह से ढक नहीं रहा था। मैं चिल्लाई और बोली, “तुम? तुम यहां क्या कर रहे हो? तुम अंदर कैसे आये?” मैं एकदम बाथरूम की और भागी।

मैंने समीर को हिचकिचाहट से भरी टूटीफूटी दबी हुई आवाज में जवाब देते हुए सुना, “देखो। … गुस्सा .. मत.. करो.. इसमें मेरी कोई… गलती .. नहीं थी। मैं तो .. दवाई .. लेने गया.. था। मैंने।  दरवाजा खुला देखा। .. तो अंदर आ गया। तुम इस… हालात में होगी … उसका मुझे जरा.. भी … अंदाज़ नहीं था।

मैं शर्म के मारे मरी जा रही थी। मुझे समीर की घबराहट भरी आवाज सुनकर गुस्सा भी आ रहा थाऔर हंसी भी। मुझे समझ नहीं आ रहा था की मैं रोऊँ या हँसूँ। मैंने अपनी हालत देखि। तौलिया या तो मेरी चूँचिया छिपा सकता था या तो मेरी इज्जत। तो मैंने अपनी इज्जत ढंकी। पर इस वजह से मेरे उद्दंड स्तन मंडल जो अकड़ से खड़े थे वह साफ़ साफ़ खुले दिख रहे थे।

मेरी फूली हुई निप्पलं मेरी उत्तेजना बयाँ कर रही थी। निप्पलोंके चारों और गोलाई में मेरे चॉकलेट रंग के एरोला फुले हुए दिख रहे थे। मेरे जीवन में पहली बार मैं एक परपुरुष के सामने ऐसी अधनंगी खड़ी हुई थी। मैं “प्ले बॉय” मैगज़ीन के कवर पेज की मॉडल की तरह लग रही थी। मैंने तौलिया सख्ति से पकड़ा और बाथरूम की और भागी।

बाथरूम का दरवाजा समीर के पीछे था। वहाँ जाने के लिए मुझे समीर के पास से ही गुजर ना पड़ता था। मैं जैसे ही समीर के पास से निकली तो समीर ने मुझे अपनी बाहों में पकड़ लिया। वह मुझे चुम्बन करना चाहते थे। उन्होंने मेरे मुंह को अपनी तरह करने की कोशिश की। पर मैंने उनका हाथ मेरे मुंह से हटा दिया। तब उन्होंने मेरे खुले हुए दोनों स्तनों को दोनों हाथों में पकड़ा और उत्तेजना से उन्हें अपने हथेलियों में सहलाने लगे और मेरी फूली हुई निप्पलों को जोर से दबाने लगे। उनकी शकल उनका हाल बयान कर रही थी।

समीर की आँखों में लोलुपता झलक रही थी। उनकी आँखें नम थीं और जैसे मुझे उनकी बाहों में आनेके लिए मिन्नतें कर रही थी। उनमें आत्मविश्वास नहीं था। वह परेशान और अनिश्चित नजर आ रहे थे। उस समय मेरा हाल भी कोई ज्यादा अच्छा नहीं था। मैं भी उनकी बाहों में जाने के लिए एकदम अधीर हो उठी और मैंने एक सेकंड के लिए सोचा “अब जो होगा सो देखा जाएगा।”.

पर तभी मेरी बुद्धि ने कहा “नहीं, अगर तू अब रुक गयी तो समझले समीर तुझे छोड़ेंगे नहीं। तू जरूर उनसे चुद जाएगी, और अपने पति को मुंह दिखाने के काबिल नहीं रहेगी। ”

मैंने समीर के हाथों करारा झटका देते हुए कहा, “यह क्या कर रहे हो? मुझे छोडो।” समीर ने मुझे छोड़ दिया और मैं भागती हुई बाथरूम में जा पहुंचि।

मैंने दरवाजे की कुण्डी अंदरसे बंद की और चैन की सांस ली। मुझे समझ नहीं आरहा था की मैं समीर पर गुस्सा करूँ या उससे डरूं। यह झंझट और मानसिक तनाव से मुझे सर दर्द होने लगा था। मेरी छींकें फिर से चालु हो गयीं। बाथरूम में मेरे पहनने के कपडे नहीं थे। मैंने समीर को आवाज लगाई, “समीर, प्लीज मेहरबानी करके मुझे अलमारी में से बदलने के लिए कपडे दे दो?”

चंद सेकंडों बाद मुझे बाथरूम के दरवाजे पर समीर ने दस्तक दिए। मैंने धीरे से थोड़ा सा दरवाजा खोला और उसके पीछे छिपते हुए मेरे कपडे समीर से लिए और फटाक से दरवाजा बंद कर दिया। मुझे डर था की कहीं समीर दरवाजे में अपना पाँव न अड़ा दे और मुझे उस नग्न हाल में देखने की जिद न करे। अगर समीर ने ऐसा किया होता और मुझे नग्न देख लिया होता तो? यह सोच कर मेरी रगों में रोमांच फ़ैल गया। मुझे ऐसी उत्तेजना क्यों हो रही थी? क्या मैं चाहती थी की समीर मुझे नग्न हालत में देखे?

मैंने समीर के लाये हुए कपडे देखे। उसने मुझे सिर्फ मेरा गाउन दिया था। बेचारा समीर। या तो उसको मेरी ब्रा और पैंटी मिली नहीं अथवा तो उसको मुझे उन कपड़ों को देने में शर्म आ रही थी। खैर, मैंने धीरे से कपडे बदले और वही गाउन पहन लिया और अंदर वाले कपडे नहीं पहने। मैंने दरवाजा थोड़ा खोल के देखा तो समीर वहीं खड़े थे। मैं उस समय भी ठीक परिवेश में नहीं थी पर मैं थक गयी थी। मैं बाहर आ गयी। मैंने समीर से बाथरूम में जाकर तौलिये से खुद को पोंछ कर कपडे बदल ने को कहा। मैंने मेरे पति राज का कुर्ता पजामा उसे दे दिया और मैं बैडरूम में चली गयी।

Comments

Scroll To Top