Bhoot To Chala Gaya – Part 8

Click to this video!
iloveall 2017-05-13 Comments

This story is part of a series:

मैं अपने आप में शर्म और गुस्से से त्रस्त थी। मैं कैसे दरवाजा बंद करना भूल गयी? एक तरफ मैं अपने आप को कोस रही थी तो साथ साथ में मुझे एक अद्भुत रोमांच का भी अनुभव हो रहाथा। यह ऐसा अनुभव था जो मुझे स्कूल में जब मैं छोटी थी और सेक्स के बारे में कुछ नहिं जानती थी तब एक लड़के ने मुझे पकड़ कर होंठ पर चुम्बन किया था तब हुआ था। मुझे गंदा, उत्तेजक, विचित्र, बीभत्स जैसे अलग अलग तरह के भाव मनमें एक साथ हुए।

मैं समीर से काफी नाराज थी। मान लिया की मैंने गलती से दरवाजा खुला छोड़ा था। पर उसे दरवाजा खटखटाना तो चाहिए था। मैंने उसे चिल्लाते हुए ऊँचे आवाज़ में बैडरूम में से कहा, “समीर, सभ्य लोग अंदर आने से पहले दरवाजा खटखटाते हैं।” यह कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है।

तब फिर समीर घबड़ायी हुई आवाज में बोलै, ‘मैंने तो दरवाजा काफी समय तक खटखटाया था। पर तुम तो उस समय अपने पति के साथ बात कर रही थी और मेरे दरवाजे खटखटा ने की आवाज नहीं सुनी तो क्या करता? तो फिर मैं अंदर आगया।”

समीर की बात सही थी। तब मुझे याद आया की जब मैं बात कर रही थी तो मैंने दरवाजा खटखटा ने की आवाज सुनी थी, पर राज के साथ बात करते करते मैंने आवाज पर उस समय ध्यान नहीं दिया था। दोष तो मेरा ही था पर बेचारे समीर को मैंने बिना वजह बुरी तरह झाड़ दिया। मुझे समीर के लिये बुरा लगा।

मैंने पैंटी और ब्रा नहीं पहनी थी, पर मैं इतनी थकी हुई थी की तब और कपडे पहनने की हालत में नहीं थी। मैं पलंग के एक छोर पर बैठी और मैंने समीर से कहा, “समीर, मैं बहुत थक गयी हूँ। मुहे बहुत जुखाम भी हुआ है और चक्कर आ रहें है। पूरा बदन दर्द कर रहा है। मैं कुछ भी खाना बनाने की स्थिति में नहीं हूँ। मैं थोड़ी देर लेटना चाहती हूँ। कुछ खाना बना हुआ फ्रिज में रखा है। क्या मैं थोड़ी देर सो लूँ और फिर तुम्हारे लिए खाना गरम कर दूँ और कुछ चपाती बना दुँ तो चलेगा? आप चाहो तो ड्राइंग रूम में बैठ कर टीवी देख सकते हो।”

मैं आगे कुछ बोलूं उसके पहले मैं पलंग पर गिर पड़ी और गहरी नींद में सो गयी। मुझे लगा की शायद समीर ने मेरे ऊपर चादर ओढ़ा दी थी।

हालांकि मैं गहरी नींद में सोई हुई थी पर मेरे दिमाग में कई धुंधली भ्रमित छबियाँ और चलचित्र आते जाते रहते थे। मुझे सपना आया की कोई काला सा आदमी मेरे सर के ऊपर मंडरा रहा था और जोर जोर से बोल रहा था, “तुमने होम वर्क नहीं किया है। तुम्हें सजा मिलेगी। …” क्या वह मेरे बॉस थे? इतने में ही एक बहुत बड़ा कॉक्रोच मुझ पर आक्रमण करने लगा और मैं चिल्लाने लगी, पर मेरे मुंह से आवाज नहीं निकल रही थी। अचानक समीर जैसा ही कोई इंसान मुझे अपनी बाहों में लेकर कुछ पीला रहा था ऐसा मुझे आभास हुआ।

जब समीर ने मुझे अपनी बाहों में जकड़ा हुआ था तब अचानक एक बहुत विशाल काय पक्षी मुझ पर टूट पड़ा और आक्रमण करने लगा। मैं समीर से चिपक गयी और जोर जोर से चिल्लाने लगी, “समीर मुझे बचाओ, यह मुझे खा जाएगा….। प्लीज …… ”

और उस बार मेरे गले में से जोरोंसे चीखें निकली और मैंने अपनी आवाज सुनी भी।

तब समीर ने मेरी पीठ सहलाते हुए मुझे हलके से और प्यार भरे शब्दों में कहा, “प्यारी नीना, सब ठीक है। यहां कोई नहीं है। शांत हो जाओ। मैं तुम्हारे साथ हूँ न?”

समीर की इतने करीब से धीमी और मधुर आवाज सुनकर मैं जाग उठी और देखा तो समीर का चेहरा मेरे शेहरे के साथ लगभग जैसे सटा हुआ था। समीर का चेहरा मेरे इतने करीब था की मैं थोड़ा सा और उठती या समीर थोड़ा सा और झुकता तो हमारे होंठ मिल जाते। एक पल के लिए मरा मन भी किया की मैं समीर को चुम लूँ, पर ऐसा कुछ नहीं हुआ।

मुझे अपना फीडबैक देने के लिए कृपया कहानी को ‘लाइक’ जरुर करें। ताकि कहानियों का ये दोर देसी कहानी पर आपके लिए यूँ ही चलता रहे।

समीर ने धीरे से मुझे पलंग पर बिठाया। मैंने घडी में देखा तो रात के ११.३० बजे थे। इसका मतलब हुआ की मैं करीब एक घंटे सोई थी। मुझे धीरे से समझ आया की जब मुझे बुरे सपने आ रहे थे तब समीर ने मुझे उठाया, पलंग पर बिठाया और मुझे कुछ दवाइयां दी थीं। समीर ने जब देखा की मैं उठ गयी थी तब उन्होंने मुझे जुखाम की दवाई दी और उसे पानी के साथ निगल जाने को कहा.

मैंने जब प्रश्नात्मक दृष्टि से समीर को देखा तो समीर ने कहा, “चिंता मत करो, यह तुम्हारे लिए जुखाम, बदन में दर्द और बुखार की दवाइयां है। इन्हें मैं डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के अनुसार दवाई की दूकान से लाया हूँ। और एक और बात, आप जब सो रहीं थीं तो मैंने न तो आपके कपडे उतारे और न ही कोई गलत काम किया है।”

मैं समझ गयी की मेरे डाँटने से समीर को काफी दर्द हुआ था और वह उस कारण बड़ा ही दुखी था।

मैंने मुस्करा कर समीर के कानों में धीमी आवाज में कहा, “बकवास मत करो। मैंने तुम्हें गलत ही झाड़ दिया। मैं तुम पर चिल्लाने और सख्त शब्दों के प्रयोग के लिए माफ़ी मांगती हूँ। वह शब्द मेरे मुंहसे मेरी झुंझुलाहट के कारण अकस्मात ही निकल पड़े। मैं जानती हूँ की तुम सभ्य हो और कोई उलटिपुलटि हरकत नहीं करोगे। अगर आज तुमने कुछ किया भी होता तो मैं तुम्हें कुछ न कहती। हे बुद्धू राम! तुमने आज मेरी जान बचाई और मुझे ठीकठाक घर ले आये और मेरी अच्छी देख भाल की जो शायद मेरे पति राज भी न करते। मुझे पता नहीं मैं तुम्हें कैसे धन्यवाद दूँ?”

पढ़ते रहिये.. क्योकि ये कहानी अभी जारी रहेगी..

पाठकों से निवेदन है की आप अपना अभिप्राय जरूर लिखें ईमेल का पता है “[email protected]” देसिसेक्स हिन्दी चुदाई कहानी

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top