Meri Naukrani Ka Pati Gopal

Click to this video!
Pardeep 2016-10-21 Comments

Indian Sex Stories

मैं पूनम ३० साल की एक हाउसवाइफ हूँ और देखने में सुन्दर और स्मार्ट हूँ और पटना की रहने वाली हूँ मेरे पति प्रीतम की पोस्टिंग कुछ दिनों पहले नार्थ ईस्ट में हुई थी..

३ साल पहले मेरी शादी हुई थी पर पति के ट्रान्सफर होने की वजह से मैं घर में अकेली रह गयी थी मेरे पति ने अपनी ही कंपनी के एक सुपरवाइजर से कह कर उसकी बीवी शोभा को मेरी हेल्प के लिए रख दिया जो सुबह ८ बजे से शाम ७ बजे तक घर की देखभाल में मेरी मदद करती थी.

शोभा का पति ड्यूटी के बाद घर के बहरी कामों में मदद कर दिया करता था शोभा के रहने से मेरा टाइम पास हो जाता था शोभा वैसे तो मेरी उम्र की है लेकिन उसके दो दो बच्चे थे जिनके रहने के वजह से काफी मन लगता था मेरा अभी तक कोई बच्चा नहीं था.

इसलिए शादी के ३ साल बाद भी मैं जस के तस थी और कुंवारी जैसी लगती थी मेरे बदन में कोई परिवर्तन नहीं हुआ था मेरा साइज़ ३२”२८”३०”था लोग मेरी सुन्दरता की तारीफ़ किया करते थे.

प्रीतम और मेरी सेक्स लाइफ साधारण थी वो हफ्ते में सिर्फ एक बार सेक्स करते थे उनके बाहर जाने पर तो मैं सेक्स सुख से कई कई दिनों तक वंचित रह जाती थी.

शोभा हमसे काफी खुल गयी थी और हमसे सेक्स लाइफ के बारे में भी चर्चा किया करती थी वो बोलती की मेमसाब आपको तो दो दो तीन तीन महीने हो जाते हैं सेक्स किये हुए आप कैसे रह जाती हो बिना इसके मैं और मेरे पति गोपाल तो रोज सेक्स करते हैं मैं भी अब उससे बात करने में काफी दिलचस्पी लेने लगी थी.

वो मुझे अपने सेक्स के बारे में बताती कि कैसे गोपाल उसको सेक्स के समय मसल डालता है और इतनी जल्दी दो दो बच्चों की माँ बना दिया है जब कभी वो मेरी मालिश करती तो मेरे नग्न बदन को देख कर कहती कि मेमसाब आप कितनी सुन्दर हो आपका बदन कितना चिकना है और लगता है कि साहब जी आप को ठीक से नहीं करते हैं आपने अपने बॉडी को मेन्टेन किया हुआ है..

एक भी अनचाहे बाल तक नहीं हैं आपके बदन पर वो मेरे बदन को पूरा सहलाने लगती और बोलती कि मैं औरत हूँ पर आपका संगमरमरी बदन देख कर उत्तेजित हो जाती हूँ मर्दों का क्या हाल होगा जब वो आपको इस तरह नग्न देख लेंगे मेरा गोपाल तो ऐसी ही बिलकुल चिकना बॉडी पसंद करता है मैं तो आपकी तरह तो अपने आपको नहीं रख पाती हूँ बच्चे भी हो गए हैं.

वो मालिश करते समय मेरे अंगों को पूरा छेड़ देती थी मेरी चुचियों को मर्द की तरह ही दबाया करती थी और यहाँ तक की मेरे चुत को भी छेड़ देती थी और अपने सेक्स लाइफ के बारे में बताती थी मेरे तन बदन बिलकुल सुलग जाता था एक मीठी सी गुदगुदी होने लगती थी पर क्या कर सकती थी वो रोज मेरी मालिश करती..

और मेरे बदन के साथ खेलती मुझे अच्छा लगने लगता गोपाल लंच के समय रोज आता और दोनों मियां बीवी गेस्टरूम में एक साथ खाते और कभी कभी उनका कमरा बंद हो जाता और वो चुदाई का खेल खेलते कभी कभी तो शोभा तेज आवाज भी करने लगती मैं तो बिलकुल उत्तेजित हो जाती और मुझसे बर्दास्त नहीं होता मैं छिप कर खिड़की की झिर्री से उनकी चुदाई देखा करती बहुत मजा आता
एकबार शोभा मुझे मालिश कर रही थी मैं सिर्फ ब्रा और चड्डी में थी शोभा मेरे अंगों से खेल रही थी और अपने ताजा चुदाई के किस्से सुना रही थी और मई आनंद के सागर में थी तब तक दरवाजे पर नॉक हुआ मैं कपडा पहनने के लिए उठी.

लेकिन शोभा ने कहा की आप ऐसे ही रहो जो भी होगा मैं उसे बाहर से ही लौटा दूंगी बाद में शोभा जब कमरे में आई तो गोपाल भी साथ में था गोपाल को देख कर मैं चौंक गयी मैंने कहा कि गोपाल तुम बाहर जाओ तो शोभा ने कहा कि मेमसाब गोपाल से मेरी बाजी लगी थी कि मेमसाब का पूरा बदन एकदम चिकना और कोरा है और शरीर पर एक भी बाल नहीं है.

गोपाल बोला कि हो ही नहीं सकता और उसने १००० रूपये की शर्त लगायी है वो सिर्फ आपका पूरा बदन एक बार बिलकुल नंगे देखेगा और चला जायेगा मैंने कहा कि नहीं ये क्या तरीका है गोपाल को बाहर करो मैंने अपने बदन पर तौलिया रख लिया लेकिन शोभा ने तौलिया मेरे बदन से दूर कर दिया.

गोपाल ने कहा कि शोभा तुम्हारी मेमसाब तो बहुत खुबसूरत हैं तुम्हारी बात सही है लेकिन इनकी ब्रा और चड्डी तो निकालो ताकि इनका पूरा शरीर चेक कर सकूँ की वाकई तुम्हारी बात सही है कि नहीं मैंने देखा कि गोपाल के पैंट में टेंट बन गया है.

Comments

Scroll To Top